मैने पूँछा चाँद से कि देखा है कहीं मेरे यार सा हसीन
.
.
चाँद ने कहा,
सुन बे ढक्कन,
सबसे पहली बात मैं तेरे बाप का नौकर नहीं हूँ…
दूसरी बात, यहाँ इतने ऊपर से बाल बराबर भी नहीं दिखता…
और तीसरी बात…
तुम लोग ये लौंडियाबाजी जमीन तक ही रखो मुझे बीच में घसीटा तो पत्थर फ़ेंक के सर फोड़ दूंगा…