बता मेरे यार सुदामा रे भजन से कैसे बनी स्टार विधी ! Full Story

आज हरियाणा में कोई K.D का फैन है तो कोई अंजली राघव का कोई दीवाना है, कोई पूजा हूडा के पीछे तो बिंदर दनौदा के गानों का फैन है, लेकिन इसी बीच इन सब कलाकारों की पहुँच से कोसों दूर रहने वाली विधी देसवाल को आज सारा हरियाणा सिर आँखों पे बिठा रहा है ! पिछले साल इन्ही दिनों तक विधि के नाम को उसके गाँव वाले भी नहीं जानते होंगे लेकिन आज घिलौड़ गाँव को ही अगर जाना जा रहा है तो सिर्फ विधी और उसकी टीम के करके ! रोहतक शहर के छोटे से गाँव घिलौड़ वासियों ने ये कभी सपने में भी नहीं सोचा होगा की उनके गाँव के एक साधारण किसान की होनहार बेटी रातों रात उनके गाँव के नाम को सारी दुनिया के आगे रौशन कर देगी !

अगर आप अभी तक विधी के नाम से अपरिचित हैं तो हम आपको बता दें की विधी है कौन ?

पिछले साल 2016 जुलाई में एक वीडियो “बता मेरे यार सुदामा रे “ सोशल मीडिया डाला गया जो देखते ही देखते वायरल हो गया ! और एक साल हो जाने के बाद भी आज भी वो अच्छा खासा शेयर किया जा रहा है ! Youtube पर इस वीडियो को अभी तक 50000000 (5 करोड़ ) से ज्यादा लोग देख चुके हैं और 12 लाख से ज्यादा बार ये फेसबुक पर शेयर किया जा चूका है !
दोस्तों कुछ लोग लाखों रुपया लगाकर वीडियो बनाते हैं, अच्छे अच्छे सिंगर, मॉडल को लिया जाता है, फिर भी वो रेस्पोंस नहीं मिलता जिसकी आशा की जाती है ! लेकिन बता मेरे यार सुदामा भजन वीडियो में ऐसा कोई खर्च नहीं किया गया ! ये वीडियो आठवीं और नोवीं कक्षा की कुछ छात्राओं द्वारा स्कूल के एक फंक्शन के दौरान बनाई गयी थी जिसे बाद में Youtube पर डाल दिया गया ! और देखते ही देखते करोड़ों लोगों को ये पसंद आने लगी !
हरियाणा की इन छोटी बेटियों को इस बात का अंदाजा भी नहीं था की वो कुछ ही दिनों में पूरे हरियाणा की शान बन जायेंगी ! विधी के आलावा इस गाने में उसकी साथी ईशा, रिंकु, मुस्कान, शीतल ओर मनीषा भी शामिल हैं ! इन पाँचों बेटियों ने अपनी तरफ से पूरा सहयोग दिया विधी का इस भजन में जान डालने में !

विधी की माने तो सबसे पहले ये भजन उनकी माँ ने उनको सुनाया और याद करवाया था ! बाद में स्कूल के किसी फक्शन के तैयारी के दौरान विधी ने अपने म्यूजिक टीचर सुमेश जी को ये सोंग सुनाया जो उनको भी बहुत अच्छा लगा और स्कूल के प्रिसिपल द्वारा विधी एंड टीम को 500 रुपया की प्रोत्साहन राशी भी दी गयी ! लोगों द्वारा अच्छा रेस्पोंस मिलने से म्यूजिक टीचर सुमेश जी ने अब कुछ नया करने की सोची और इसी भजन को कुछ नया म्यूजिक देकर और बेहतर बनाने का प्रयास किया गया ! उसके बाद जुलाई 2016 को कुरक्षेत्र युनिवेर्स्टी फंक्शन में ये भजन इन छात्राओं द्वारा गाया गया ! वहां पर भी विधी एंड टीम को 31000 रुपए की राशी मिली !
लोगों द्वारा इतना पसंद किये जाने पर सुमेश जी ने सोचा की विधी एंड टीम का ये भजन सबकी जुबान पर आना चाहिए जिससे न सिर्फ विधी एंड टीम को लोग जाने बल्की स्कूल का नाम भी रौशन हो ! तो उन्होंने स्टूडियो में विधी का ये भजन रिकॉर्ड करवाकर youtube पर डाल दिया ! सुमेश जी की आशा से हजाओं गुना ज्यादा अच्छा रेस्पोंस दिया हरियाणा के लोगों ने इस भजन को और देखते ही देखते विधी एंड टीम रातों रात स्टार बन गयी !
आपको जान कर हैरानी होगी अब तक विधी सैंकड़ों जगह ये भजन गा चुकी हैं ! और हरियाणा के मुख्मंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर और कुछ दिन पहले भारत के राष्ट्रपती प्रणव मुखर्जी ने भी विधी को समानित किया था !
अब आपको बताते हैं विधि के बारे में एक चौकाने वाली बात !
दोस्तों क्या आपको पता है की जब विधी का जन्म हुआ तो घर में कोई खुश नहीं हुआ था ? क्योंकी घरवाले लडकी नहीं एक लड़का चाहते थे जो खेतीबाड़ी में पिता का हाथ बंटा सके ! लेकिन आज वो ही दादी, वो ही पिता ( सतीश) और वो ही माता (संतोष) अपनी सोच पर पछताते हैं ! आज घिलौड़ गाँव का हर इंसान लड़का नहीं विधी जैसी लड़की को मांगता है ! वहाँ के सरपंच जी की बात करें तो वो स्वयं कहते हैं की अब यहाँ के लोग लड़कों से ज्यादा लड़कियों को आगे ले जाना चाहते हैं !
दोस्तों अगर हम भी अपनी सोच को इसी तरह बदल दे तो आज हमारी बेटियां क्या नहीं कर सकती ? बेटियां किसी भे क्षेत्र में बेटों से कम नहीं हैं ! हरियाणा की शान टीम आप सब से अनुरोध करती है की सिर्फ लड़का होने पर ही घर में खुशी न मनाएं लडकी होने पर भी घर में वो ही खुशी मनाएं जो लड़का होने पर मनती है !
जल्दी ही विधी एंड टीम आपकी सामने अपना नया भजन लाने को तैयार है ! इन्तजार कीजिये और बेटियों को इसी तरह प्रोत्साहित करते रहिये ! बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान के तहत Haryana Ki Shaan Team !